छत्तीसगड़देश

छत्तीसगढ़ में अब पड़ेगी कड़ाके की ठुठरन

सरगुजा-पेण्ड्रा भी सर्द, उत्तर से आने वाली हवाएं बढ़ाएगी ठंड

Realindianews.com
रायपुर। देश में जिस प्रकार ठंड करवट ले रही है उसी प्रकार छत्तीसगढ़ में तेज ठंड ने दस्तक दे दी है। एक दिन के भीतर कई स्थानों पर रात का तापमान तीन डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है। कोरिया में न्यूनतम तापमान 10.3 डिग्री पेण्ड्रा रोड में 11.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। सरगुजा में भी न्यूनतम तापमान 12 डिग्री के आसपास है। वहीं सुदूर दक्षिण के बस्तर संभाग के कुछ जिलों में उत्तर के कुछ जिलों से अधिक ठंड पड़ रही है। सामान्य तौर पर प्रदेश के सरगुजा-बिलासपुर संभाग के कई जिलों और दुर्ग के कबीरधाम जिले में अधिक ठंड पड़ती है। मौसम विभाग के मुताबिक रविवार को अंबिकापुर का न्यूनतम तापमान 12.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ है। यह वहां के सामान्य न्यूनतम तापमान से एक डिग्री कम है।
पेण्ड्रा रोड में 11.8 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा जो सामान्य से तीन डिग्री तक कम है। रायपुर में कृषि विश्वविद्यालय के पास न्यूनतम तापमान 14.5 डिग्री, माना में 16.6 डिग्री और मौसम विज्ञान केंद्र लालपुर में 17.3 डिग्री सेल्सियस मापा गया। यह भी सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस कम है।
दुर्ग में यह तापमान 16.6 डिग्री, बिलासपुर में 15.4 डिग्री, राजनांदगांव में 16.1 और जगदलपुर में 15.3 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ है। रविवार को कोरिया में प्रदेश का सबसे कम तापमान 10.3 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं नारायणपुर में 11.9 तापमान रिकॉर्ड हुआ है। एक दिन पहले कबीरधाम में प्रदेश का सबसे कम न्यूनतम तापमान 12.2 डिग्री दर्ज किया गया था। बस्तर के नारायणपुर में न्यूनतम तापमान 12.3 डिग्री था। वहीं अंबिकापुर का तापमान 14.6 डिग्री सेल्सियस तक रिकॉर्ड हुआ था। मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में उत्तर से शुष्क हवाओं का आगमन हो रहा है। इसके कारण प्रदेश में मौसम शुष्क रहने की संभावना है।
तीन-चार दिनों तक गिरेगा पारा
मौसम विभाग के मुताबिक अगले तीन-चार दिनों में न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट हो सकती है। आसमान साफ रहेगा और सुबह कोहरा नजर आएगा। मौसम विज्ञानी एच.पी. चंद्रा का कहना है कि तीन दिनों के बाद न्यूनतम तापमान में मामूली वृद्धि भी होगी। मौसम में कोई विशेष परिवर्तन नहीं होगा।
उत्तर से ठंडी हवाएं आएंगी तो तेजी से गिरेगा तापमान
बताया जा रहा है कि सामान्य तौर पर उत्तर से आती शुष्क और ठंडी हवाओं की वजह से प्रदेश का उत्तरी-पश्चिमी हिस्सा अधिक ठंडा होता है। इस बार उत्तर से शुष्क हवाएं आने लगी हैं। जैसे ही इनकी ठंडक बढ़ेगी इन क्षेत्रों में तेजी से तापमान गिरेगा। दिन के तापमान में भी गिरावट आएगी। उसके बाद ही अधिक ठंड महसूस होगी। रात का पारा 10 डिग्री सेल्सियस से नीचे पहुंच जाएगा।
बारिश का भी रिकार्ड 1930 में 70 मिमी
नवंबर में रायपुर समेत दूसरे इलाकों में बारिश का रिकार्ड रहा। ठंड के सीजन में दक्षिण भारत में बारिश का ट्रेंड रहा है। इसके असर से छत्तीसगढ़ में बारिश होती है। मौसम विभाग के अनुसार रायपुर में 2 नवंबर 1930 को 24 घंटे में 70.4 मिमी बारिश का आल टाइम रिकार्ड है। जबकि 1924 में मासिक वर्षा 138.2 मिमी का रिकार्ड है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button